धातु और अधातु

आप क्या सीखेंगे:

भौतिक गुण

धातु के भौतिक गुण


अधातु के भौतिक गुण

धातु के रासायनिक गुण

धातु का दहन

ज्यादातर धातु ऑक्सीजन के साथ मिलकर ऑक्साइड बनाते हैं।

उदाहरण: जब कॉपर को हवा में गर्म किया जाता है तो कॉपर (II) का निर्माण होता है। कॉपर (II) ऑक्साइड काले रंग का होता है।

2Cu + O2 ⇨ 2CuO

जब अलमुनियम को हवा में गर्म किया जाता है तो अलमुनियम ऑक्साइड बनता है।

4Al + 3O2 ⇨ 2Al2O3

उभयधर्मी (Amphoteric) ऑक्साइड: धातु के ऑक्साइड अक्सर क्षारीय प्रवृत्ति के होते हैं। इसका मतलब ये है कि अधिकतर मेटलिक ऑक्साइड एसिड के साथ प्रतिक्रिया करके लवण और जल बनाते हैं। लेकिन कुछ मेटलिक ऑक्साइड अम्लीय और क्षारीय दोनों प्रवृत्ति दिखाते हैं। वैसे ऑक्साइड को एम्फोटेरिक ऑक्साइड कहते हैं। एम्फोटेरिक ऑक्साइड अम्ल और क्षारक दोनों से प्रतिक्रिया करते हैं और साल्ट तथा जल बनाते हैं।

उदाहरण: अलमुनियम ऑक्साइड एक एम्फोटेरिक ऑक्साइड है। यह हाइड्रोक्लोरिक एसिड से प्रतिक्रिया करके साल्ट और जल बनाता है। यह सोडियम हाइड्रॉक्साइड से भी प्रतिक्रिया करता है और साल्ट और जल बनाता है।

Al2O3 + 6HCl ⇨ 2AlCl3 + 3H2O

Al2O3 + 2NaOH ⇨ 2NaAlO2 + H2O

ज्यादातर मेटलिक ऑक्साइड जल में अघुलनशील होते हैं। लेकिन सोडियम और पोटाशियम के ऑक्साइड जल में घुलकर क्षार बनाते हैं।

Na2O (s) + H2O (l) ⇨ 2NaOH (aq)

K2O (s) + H2O (l) ⇨ 2KOH (aq)


अलग-अलग धातु की ऑक्सीजन से प्रतिक्रिया अलग-अलग गति से होती है। सोडियम और पोटाशियम बड़ी तेजी से ऑक्सीजन से प्रतिक्रिया करते हैं जिससे उनमे आग पकड़ लेती है। गलती से आग लगने से रोकने के लिये सोडियम और पोटाशियम को केरोसीन में डुबाकर रखा जाता है। कुछ धातु रूम के तापमान पर अपने ऊपर ऑक्साइड की एक परत बना लेते हैं, जैसे मैगनीशियम, अलमुनियम, लेड और जिंक। ऐसी धातु पर बनी ऑक्साइड की परत से इनका आगे का ऑक्सीकरण रुक जाता है और कोरोजन की रोकथाम होती है। आयरन गरम करने पर भी नहीं जलता है, लेकिन लोहे की छीलन को जब फ्लेम पर छिड़का जाता है तो वह तेजी से जलती है। कॉपर को गर्म करने पर वह जलता नहीं है लेकिन कॉपर (II) के बनने के कारण काले रंग का हो जाता है। सोना और चांदी तो उच्च तापमान पर भी ऑक्सीजन से प्रतिक्रिया नहीं करते हैं।

एनोडीकरण: अलमुनियम ऑक्साइड की एक मोटी परत बनने की प्रक्रिया को एनोडीकरण कहते हैं। ऐसा करने के लिये अलमुनियम से बने सामान को एनोड बनाया जाता है और सल्फ्यूरिक एसिड की उपस्थिति में इसकी इलेक्ट्रोलिसिस की जाती है। इलेक्ट्रोलिसिस के दौरान निकलने वाली ऑक्सीजन गैस अलमुनियम को ऑक्सीकृत कर देता है। इस तरह से अलमुनियम ऑक्साइड की एक मोटी परत बन जाती है। अलमुनियम ऑक्साइड की इस परत को आसानी से किसी भी रंग से रंगा जा सकता है जिससे अलमुनियम से बने सामान को सुंदर बनाया जा सकता है।


Copyright © excellup 2014