बल और दाब

बल: किसी वस्तु पर लगने वाले दाब या खिंचाव को बल कहते हैं। बल के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें नीचे दी गई हैं।


गति की अवस्था पर बल का प्रभाव

बल किसी भी वस्तु की गति की अवस्था को बदल सकता है। कोई वस्तु विराम की अवस्था में हो या चल रही हो, दोनों ही उसकी गति की अवस्थाएँ होती हैं। जब कोई वस्तु विराम की अवस्था में होती है तो उसकी चाल जीरो होती है।

विराम की अवस्था में बल का प्रभाव: जब कोई वस्तु विराम की अवस्था में होती है तो बल उसमें गति ला सकता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई किताब मेज पर रखी है तो बल लगने से वह किताब बल की दिशा में गति करेगी।


गति की अवस्था में बल का प्रभाव: जब कोई वस्तु गतिशील होती है तो बल लगने पर उस पर निम्नलिखित प्रभाव पड़ सकते हैं।

आकृति पर बल का प्रभाव: बल किसी वस्तु की आकृति बदल सकता है। उदाहरण के लिए, जब आटे की लोई पर बेलन से बल लगाया जाता है वह चपाती में बदल जाती है। जब कोई कुम्हार मिट्टी की लोई पर बल लगाता है तो उसे किसी बरतन की आकृति दे देता है। जब गुब्बारे में हवा भरी जाती है तो हवा द्वारा लगाए गए बल के कारण गुब्बारे की आकृति बदल जाती है।



Copyright © excellup 2014